September 29, 2022

आधार वर्चुअल आईडी (VID) कैसे बनायें | How to Generate Aadhar VID 2018

आधार वर्चुअल आईडी

आधार वर्चुअल आईडी एक 16-डिजिट का अस्थायी कोड है जिसका उपयोग आधार वेरिफिकेशन के लिए किया जा सकता है। आप एजेंसियों को अपने आधार नंबर के बजाय UIDAI वर्चुअल आईडी दे सकते हैं और अपनी आधार जानकारी को सुरक्षित रख सकते हैं, इससे कोई दूसरा आपकी आधार जानकारी प्राप्त नहीं कर सकता है। आप प्राइवेट और सरकारी दोनों संगठनों में अपने e-KYC पूरा करने के लिए आधार वर्चुअल आईडी प्रदान कर सकते हैं। वर्चुअल आईडी का इस्तेमाल आधार कार्ड को UIDAI के ऑफलाइन पोर्टल से डाउनलोड करने के लिए भी किया जा सकता है।

आधार वर्चुअल आईडी क्या है?

वर्चुअल आईडी आधार नंबर का एक विकल्प है। इस अस्थायी कोड में 16 डिजिट होते हैं जो एक आधार नंबर पर उत्पन्न होते हैं। हालाँकि, किसी भी स्थिति में वर्चुअल आईडी का उपयोग मूल आधार कार्ड को दोबारा प्राप्त करने के लिए नहीं किया जा सकता है एक बार में एक आधार नंबर के लिए केवल एक ही वर्चुअल आईडी  बन सकती है। उपयोगकर्ता जितनी बार चाहे उतनी बार इसको उत्पन्न कर सकता है। यह कोड कम से कम एक दिन के लिए मान्य होता है।

आधार वर्चुअल आईडी ऑनलाइन कैसे बनाने

आपको अपने आधार के बजाय उपयोग करने के लिए एक वर्चुअल आईडी बनानी होगी। वर्चुअल आईडी को UIDAI की आधिकारिक साइट पर जाकर ऑनलाइन बनाया जा सकता है। यह भी प्रस्तावित है कि वर्चुअल आईडी बनाने का विकल्प भविष्य में mAadhaar app में प्रदान किया जा सकता है। हालाँकि, ध्यान रहें कि इस सेवा का लाभ उठाने के लिए मोबाइल नंबर UIDAI के साथ रजिस्टर्ड होना चाहिए क्योंकि वर्चुअल आईडी आपके मोबाइल नंबर पर ही भेजा जाएगा। यदि आपने अपना मोबाइल नंबर UIDAI के साथ रजिस्टर्ड नहीं किया है, तो आपको पहले अपना मोबाइल नंबर आधार के साथ जोड़ना होगा। वर्चुअल आईडी और वर्चुअल आईडी प्राप्त करने की प्रक्रिया एक ही है। आधार वर्चुअल आईडी बनाने के लिए, निम्नलिखित प्रक्रिया का पालन करें:

  1. UIDAI की वेबसाइट http://uidai.gov.in/ पर जाएँ 
  2. “Aadhaar Services”  सेक्शन में “Virtual ID (वर्चुअल आईडी) Generator” पर क्लिक करें 
आधार वर्चुअल आईडी (VID) कैसे बनायें | How to Generate Aadhar VID 2018 - Apna CSC Help
  1. आपको एक नए वर्चुअल आईडी जेनरेशन पेज पर ले जाया जाएगा:
  2. अपना 12- अंकीय आधार नंबर और सिक्योरिटी कोड दर्ज करें
  3. अब “Send OTP” बटन पर क्लिक करें 
  4. UIDAI के साथ रजिस्टर्ड आपके मोबाइल नंबर पर एक OTP भेजा जाएगा
  5. OTP दर्ज करें और “Generate वर्चुअल आईडी” और “Retrieve वर्चुअल आईडी” में से एक विकल्प चुनें
  6.  अब “Submit”  बटन पर क्लिक करें
  7. आपको एक मैसेज प्राप्त होगा, “Congratulations!   आपका वर्चुअल आईडी नंबर सफलतापूर्वक जनरेट हो गया है और आपके रजिस्टर्ड मोबाइल पर भेज दिया गया है।”
  8. आपको अपने रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर, आधार के अंतिम 4 अंकों का उल्लेख करते हुए , उत्पन्न किए गए आधार नंबर के लिए 16-अंकीय वर्चुअल आईडी का मैसेज आयेगा
  9. आप अन्य आधार नंबर के साथ-साथ अपने परिवार के लिए भी वर्चुअल आईडी बना सकते हैं

वर्चुअल आईडी की आवश्यकता क्यों होती है?

ऐसे कई मामले सामने आए हैं जिनमें कथित रूप से आधार जानकारी लीक होने के दावे किए गए हैं। लोग अपने आधार की सुरक्षा और इसकी जानकारी के लीक होने पर परेशान हैं। UIDAI ने लोगों की परेशानियों का समाधान करते हुए एक वर्चुअल आईडी का निर्माण किया है। जब उपयोगकर्ता आधार के बजाय अपना वर्चुअल आईडी प्रदान करते हैं, तो एजेंसी आवेदक का आधार नंबर प्राप्त नहीं कर सकते हैं और वेरिफिकेशन हमेशा की तरह किया जाता है। इस प्रकार, आधार नंबर और अन्य जानकारी को किसी भी तरह से एजेंसी प्राप्त नहीं कर सकते हैं और आधार नंबर तथा अन्य जानकारी हैक किए जाने से सुरक्षित रहती हैं।

आधारधारक वर्चुअल आईडी बना सकते हैं और किसी भी सेवा को प्रमाणित करने के लिए इसका उपयोग कर सकते हैं। एक बार वेरिफिकेशन पूरा हो जाने के बाद, आवेदक अपनी वर्चुअल आईडी दोबारा जारी कर सकता है, ताकि यदि एजेंसी के पास जानकारी हो तो वो किसी इस्तेमाल की न रहें।

आधार वर्चुअल आईडी की विशेषताएँ

UIDAI  ने  वर्चुअल आईडी  के माध्यम से अपने सिस्टम में कई  अपडेट किए है। वर्चुअल आईडी की कुछ मुख्य विशेषताएँ हैं:

  1. वर्चुअल आईडी एक अस्थायी16डिजिट का कोड है जो वेरिफिकेशन के लिए आधार की जगह इस्तेमाल होता है
  2. एक समय में केवल एक वर्चुअल आईडी जारी की जा सकती है। जब भी नयी वर्चुअल आईडी जारी की जाती है तो पुराने को हटा दिया जाता है
  3. वर्चुअल आईडी से आधार नंबर प्राप्त नहीं किया जा सकता है
  4. कितनी बार भी वर्चुअल आईडी बनाई जा सकती है
  5. वर्चुअल आईडी बनाना अनिवार्य नहीं है। एक व्यक्ति वर्चुअल आईडी के बजाय अपना आधार पेश कर सकता है
  6. एजेंसियाँ आवेदकों को e-KYC या वैरिफिकेशन के लिए आधार न० देने के लिए बाध्य नहीं कर सकती हैं
  7. एजेंसियों को वर्चुअल आईडी का उपयोग करके वेरिफिकेशन के लिए उपयोगकर्ता से सहमति लेनी होगी
  8. कोई भी एजेंसी वेरिफिकेशन के लिए ली गई वर्चुअल आईडी या किसी अन्य आधार जानकारी को रखने के लिए अधिकृत नहीं है
  9. वर्चुअल आईडी तब तक वैध है, जब तक उपयोगकर्ता एक नई आईडी जनरेट नहीं करता है
  10. जब भी आप अपना आधार दोबारा प्राप्त करते हैं, तो अंतिम जनरेट वर्चुअल आईडी को रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर भेजा जाता है

Important Links

Generate Aadhar Virtual IDClick Here
Download Adhar CardClick Here
Update Online Aadhar CardClick Here
Official WebsiteClick Here

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!